ह्रदय के हार आचार्य महाश्रमणजी का देश के दिल दिल्ली पधारने पर भव्य स्वागत



दिल्ली , 03 जून 2014 परम पूज्य आचार्य श्री महाश्रमणजी भीषण गर्मी में राजस्थान से पंजाब और हरियाणा के गांवों की पदयात्रा करते हुए भारत की राजधानी दिल्ली नगरी में पधार गए हैं आचार्य श्री आचार्यपद पर आरूढ़ होने के बाद विशाल संघ के साथ पहली वार राजधानी में पधारे है। आचार्यश्री महाश्रमणजी आचार्य श्री तुलसी और आचार्य श्री महाप्रज्ञ जी के उत्तराधिकारी हैं समता और जितेन्द्रियता के मूर्त्त रूप है।
आचार्य श्री महाश्रमण जी शिक्षा, व्यापार, राजनीति, प्रशासन आदि सभी क्षेत्रों में साम्प्रदायिक सदभाव नैतिक जागरण का सन्देश प्रदान करेंगे। दिनांक 8 जून को तालकटोरा स्टेडियम में आचार्य श्री का नागरिक अभिनन्दन होगा। जिसमें केन्द्रीय मंत्री दिल्ली के सांसद व तीनों महापौर भाग लेंगे दिल्ली नगर की सीमा में प्रवेश के अवसर पर लगभग 7 हजार श्रद्धालुओं ने आचार्यश्री का स्वागत किया। इस अवसर पर सांसद सदस्य श्री प्रवेश वर्मा सैकड़ो समाजिक कार्यकर्ता व मुस्लिम समुदाय के लोग भी उपस्थित थे।

नांगलोई, नफजगढ सीमा पर युवा जैन आचार्य का भावभीना स्वागत लोकसभा के सांसद प्रवेश वर्मा ने किया। साम्प्रदायिक सौहार्द के जीवन्त प्रतिमान आचार्य महाश्रमण का अनेक समुदाय के लोगों ने अभिनन्दन किया जिसमें हजारों की तादाद में बच्चों एवं महिलाओं की वि६ोष उपस्थिति थी।
अणुव्रत प्रवर्तक आचार्य तुलसी जन्म का शता?दी वर्ष के विशेष उद्दे६य के साथ दिल्ली पधारें राष्ट्रसंत की अनुशासना में दिल्ली नगर निगम के 1729 विद्यालयों के 21,००० शक्षक और 1० लाख विद्यार्थियों ने नशामुक्ति के संकल्पों को अग्रिम ग्रहण किया। अणुव्रत से सम्बन्धित संस्थाओं द्वारा पूरे भारत में 5०,5०,०००० व्यक्तियों ने नशामुक्ति के हस्ताक्षरित संकल्प पत्र् प्रस्तुत किये। दिल्ली में 1०० किलोमीटर ‘अणुव्रतवाक’ के साथ ‘सिग्नेचर केम्पेन चल रहा है। पर्यावरण शुद्घि क्षेत्र् में जैन समाज द्वारा व्यापक कार्यक्रम अन्तर्राष्ट्रीय सेमिनार वगैरह आयोजित होगी।
वर्तमान समय में महिला असुरक्षा और अपराध की जड रहे लिंगानुपात असन्तुलन एवं हिंसा को मद्देनजर रखते हुए ‘कन्या सुरक्षा अभियान’ कन्या भ्रुण रक्षा अभियान हेतु रैलियां, प्रवचन, उद्बोधन, नुक्कड नाटक, हॉर्डिंग, पोस्टर एवं सामुहिक संकल्पों द्वारा व्यापक जन जागरण के कार्यक्रम तेरापंथ महिला समाज द्वारा किये जा रहे हैं। जहां महिलाएं विकलांगों का कृत्र्मि पैर, व्हील चैयर वगैरह का वितरण कर रही हैं। वहीं तेरापंथ युवक परी८ादें सैकडों युनिट ?लड डॉनेशन द्वारा मेघा ?लड डोनेशन ड्राइव आयोजिन कर रहे हैं।
इस प्रकार ऋषि मुनियों के त्याग-तपस्या को तेजस्विता से आप्लावित भारतीय श्रामण्य परम्परा के सशक्त संवाहक आचार्य महाश्रमण का दिल्ली आगमन प्रतीक है, इस बात का कि दिल्ली के अच्छे दिन आ गये हैं। आचार्य महाश्रमण प्रवास व्यवस्था समिति के अध्यक्ष के.एल. जैन पटावरी एवं महामंत्री शातिकुमार जैन के नेतृत्व में उत्साही कार्यकर्त्ताओं की वृहत टीम आचार्य महाश्रमण के संदेशों को दिल्ली के माध्यम से पूरी दुनिया में फैलाने को कृत संकल्प ह।





Related

News 5265577428578511012

Post a Comment Default Comments

Leave your valuable comments about this here :

emo-but-icon

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments





Total Pageviews

item