सेवा, सहिष्णुता, मैत्री एवं अनुशासन अच्छे कार्यकर्ता के गुण: आचार्य महाश्रमण जी


आचार्य श्री महाश्रमण जी के दिल्ली शुभागमन पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवकों ने उनका हार्दिक अभिनन्दन कियाआचार्य श्री महाश्रमण जी ने केशव कुञ्ज में कार्यकर्ता स्वयंसेवकों का मार्गदर्शन किया .
आचार्य श्री ने कार्यकर्ताओं के लिये सात सूत्र बताये उन्होंने कहा कि कार्यकर्ता में सबसे पहला गुण सेवा भाव का होना चाहियेकार्य तो हर कोई करता हैभोजन करनास्नान करना आदि सब अपने लोग अपने काम करते हैउन्होंने पूछालेकिन क्या ये सब कार्यकर्ता हो गये दूसरों के लिये निष्ठापूर्वक स्वयं अपनी सुविधा को छोड़कर भी काम करने की भावना कार्यकर्ता में होनी चाहिये.
सहिष्णुता को दूसरा अनिवार्य गुण बताते हुए जैन मुनि ने कहा कि कार्यकर्ता में कठिनाइयों को झेलने की क्षमता होनी चाहियेएक कार्यशील व्यक्ति के सामने विपरीत परस्थितियां आ सकतीं हैं कहीं यात्रा में ऊबड़-खाबड़ जमीन पर सोना पड़ सकता हैसादा भोजन भी करना पड़ सकता है इसी प्रकारकहीं पर अच्छा भोजनकहीं सम्मान तो कहीं असम्मान मिल सकता हैकई बार लोग जानकारी न होने के कारण अपनी अवधारणा से अलग बात करने लग जाते हैं .लेकिन कार्यकर्ता को हर स्थिति में शांत रहना चाहिये गुस्सा करने की वजह हर परिस्थिति को सहन करना ही कार्यकर्ता का धर्म है .
कार्यकर्ता में मैत्री भावना को उन्होंने तीसरा गुण बताया.कार्यकर्ता को ज्यादा गुस्सा नहीं करना चाहिये गुस्सा करना तो हमारी कमजोरी है हमें कोई गधा कह देकुछ भी कह दे लेकिन शांत रहकर उसकी बात सुननी चाहिये आवेश में आये बिना कार्यकर्ता को अपनी बात कहनी चाहिये झुकने की जरूरत नहीं लेकिन मौके पर अपनी बात जरूर कह देनी चाहिये .
चौथा सूत्र है कार्यकर्ता में ईमानदारी होनी चाहिये बात का सच्चा होना चाहिये और पैसे का मामला होसमाज से चंदा-अनुदान मिलता हैतो उसमें कोई गड़बड़ी न हो जायेइसके लिये आर्थिक शुचिता होनी चाहिये समाज ने जो विश्वास के रूप में दिया है तो हम भी समाज के विश्वास की सुरक्षा करें और धन के साथ नैतिक मूल्यों को जोड़े रखें नैतिकता के साथ धन का ध्यान रखें .
पांचवां सूत्र है कार्यकौशल कार्यकर्ता को अपनी कुशलता का विकास करना चाहिये कि मैं काम कितने बढि़या ढंग और कितने अच्छे ढंग से करूं .
छठा सूत्र है विवेक सम्पन्नता कार्यकर्ता विवेकशील हो व अपने कर्तव्य के प्रति जागरूक हो कृतघ्न और अनुशासन के बिना यह लोकतन्त्र का देवता भी विनाश और मृत्यु को प्राप्त हो जायेगा लोकतन्त्र होराजतन्त्र हो या कोई भी तन्त्र होनिष्ठा सब जगह आवश्यक होती है .
सातवां गुण अनुशासनबद्धता है अनुशासन कार्यकर्ता के लिये अनिवार्य हैइस प्रकारइन सात गुणों के साथ कार्यकर्ता अपने कार्य में सफल हो सकता है कार्यकर्ता अपना ऊंचा एवं उदात्त लक्ष्य बनाये रखें .
आचार्य श्री का अभिनंदन-वंदन करते हुए उत्तर क्षेत्र संघचालक श्री बजरंग लाल गुप्त ने कहा कि उनके पदार्पण से केशव कुंज परिसर में व्याप्त कर्मऊर्जा-सामाजिक ऊर्जा में आध्यात्मिक ऊर्जा का सम्पुट लगा हैजिससे संघ के कार्यकर्ताओं को काम करने की अभिनव प्रेरणा मिलेगीसाथ हीदिशा और दृष्टि भी म लेगीऐसे आचार्य श्री का आना मानो दो प्रकार की धाराओं के सम्मिलन का अदभुत प्रकार का दृश्य उत्पन्न हुआ है.

Article Courtesy: www.vskkerala.com

Related

Pravachans 328319723299398884

Post a Comment Default Comments

Leave your valuable comments about this here :

emo-but-icon

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments





Total Pageviews

item