शारजाह के स्कूली छात्रों एवं शिक्षकों हेतु जीवन विज्ञान कार्यशाला

३ नवम्बर. डीपीएस शारजाह स्कुल में समणी श्रेयसप्रज्ञाजी एवं समणी अमलप्रज्ञाजी के सान्निध्य में छात्रों एवं शिक्षकों हेतु एक कार्यशाला आयोजित की गयी. छात्रों के लिए आयोजित पहले सत्र में करीब २७० छात्रों को ‘हिट टॉप ऑफ़ द वर्ल्ड’ विषय पर मार्गदर्शन देते हुए समणीजी ने फरमाया - व्यक्ति को जीवन में नयी ऊँचाइया छूने के लिए 1. सर्वप्रथम स्वयं की क्षमताओं पर स्वयं का विशवास होना चाहिए. 2. विधायक दृष्टिकोण होना चाहिए. 3. दूसरों से तुलना नहीं करनी चाहिए. उन्होंने विधायक दृष्टिकोण एवं आत्मविशवास को बढाने हेतु कुछ ध्यान के प्रयोग भी छात्रों को बताएं.  इससे पूर्व छात्राओं ने समणी जी का स्कुल की ओर से सामूहिक रूप से स्वागत किया.  श्री राकेश बोहरा ने समणी वृन्द का परिचय प्रस्तुत किया.

शिक्षकों हेतु आयोजित दुसरे सत्र में करीब ८० शिक्षकों को “शिफ्ट फ्रॉम बिजिएस्ट लाइफ टू इजीएस्ट लाइफ” विषय पर प्रबोधन देते हुए समणीजी ने फरमाया कि-
व्यक्ति व्यस्त रहे लेकिन अस्त-व्यस्त न रहे. कार्य की व्यस्तता एवं तनाव की वजह से व्यक्ति न जाने कितनी अनवांछित समस्याओं को स्वयं निमंत्रण दे देता है एवं जीवन को जटिल बना देता है. इसलिए आवश्यक है कि हम जीवन को संतुलित एवं सरल बनाने की दिशा में प्रयास करें.
कार्यक्रम के अंत में स्कुल के छात्रों द्वारा बनाई गयी एक चित्र कृति समणी वृन्द को भेंट की गयी. जीवन विज्ञान अकादमी की ओर से स्कुल को जीवन विज्ञान के प्रसार में सहयोग हेतु स्मृति चिन्हं भेंट किया गया.










Related

Local 1127063784291392594

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments





Total Pageviews

item