कभी कभी नहीं बोलना भी बहुत अच्छा है - मंत्री मुनि श्री सुमेर मल जी

मंत्री मुनि सुमेरमल जी स्वामी

जैन तेरापंथ न्यूज़
मंत्री मुनि सुमेरमल जी स्वामी 
जैन तेरापंथ न्यूज़दिनाँक 8 जनवरी 2015, मंत्री मुनि श्री सुमेर मल जी ने आई.टी.ओ स्थित अणुव्रत भवन मैं अपने 41 दिवसीय विशिष्ट एकांत साधना के पूर्ण होने पर श्रावक श्राविकाओ  को सबोधित करते हुए कहा भारत देश ऋषि मुनियों का देश है।अपने वेष व परिवेश मैं रहते हुए वे अपने -अपने ढंग से साधना करते रहे है और आज भी कर रहे है।मुनि के लिए एक शब्द आया है तपोधन वह उनकी साधना को प्रकट करता है।वे मात्र शरीर से ही नहीं मन ,वचन से भी तपस्या की जाती है।मुनि का  यह लक्ष्य होता है वह निरंतर कुछ न कुछ तप करता रहे।वह जितनी बाहर से साधना करेगा भीतर भी उसका फल मिलेगा ।मुनियो का  लक्ष्य ही यह रहता है कुछ न कुछ तप,जप,ध्यान आदि का अभ्यास निरंतर चलता रहे अभ्यास जितना पुष्ठ होता है उतना ही शक्ति का पादुभॉव होता है इसलिए साधना का अपना महत्व है।
मंत्री मुनि श्री ने आगे कहा की उपदेश देना अच्छा है पर कभी कभी नहीं बोलना भी बहुत अच्छा है शक्ति का संचय करने के लिय मौन की साधना करनी चाहिए।मौन की स्थिति मैं एकाग्रता भी अच्छी रहती है धर्म संघ की तेजस्विता वर्धमान रहे,इसमें सबकी सहभागिता आवश्यक है प्रवचन के बाद मंत्री मुनि ने वृहद मंगल पाठ सुनाया।
मुनि श्री उदित कुमार जी ने मंत्री मुनि की एकान्त साधना की जानकारी दी मुनि श्री विजय कुमार जी ने भाव पूर्ण कविता प्रस्तुत की।दिल्ली के श्री  के.ल जैन पटवारी,महामंत्री श्री सुखराज सेठिया ने अपने विचार रखे। कार्यक्रम का कुशल संचालन श्री दीपक सिंघी ने किया।

फ़ोटो साभार व रिपोर्ट : दीपक सिंघी ,ऋषभ बैद, विनीत मालु
प्रस्तुति : अभातेयुप जैन तेरापंथ न्यूज़ ब्यौरों से पंकज दुधोड़िया , विनय जैन 

Related

Mantri Muni Sumermalji 7706685704830755075

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments





Total Pageviews

item