जैन विश्व भारती विश्वविद्यालय का 26वां स्थापना रजत जयंती वर्ष समारोह मनाया

अतिथियों ने स्मारिका का किया विमोचन, उत्कृष्ट कार्य करने वालों का भी हुआ सम्मान 

Jain Vishwa Bharti University Celebrating 26th Anniversary at Ladnun In the Pious Presence of Muni Shri Vimal Kumar ji & Sadhvi Shri Ujjwal Prabhaji and Vice Chancellor Samni Charitra Prgya Ji . 

जैनविश्वभारती संस्थान (मान्य-विश्वविद्यालय) का 26वां स्थापना दिवस समारोह एवं रजत जयंती वर्ष समारोह का समापन समारोह सुधर्मा सभा में रविवार को मुनि श्री विमलकुमारजी , रैवासा धाम पीठाधीश्वर जगदगुरू डॉ. स्वामी राघवाचार्य महाराज ख्वाजा दरगाह कमेटी के अध्यक्ष असरार अहमद खान के सान्निध्य में समारोह पूर्वक मनाया गया। समारोह के मुख्य अतिथि राजस्थान सरकार के सूचना आयुक्त आशुतोष शर्मा ने संबोधित करते हुए कहा कि शिक्षा रोजगार के लिए जरूरी है, लेकिन अगर शिक्षा केवल रोजगार के लि‍ए ही मिलने लगे तो यह ठीक नहीं है। शिक्षा से जीवन मूल्यों का ज्ञान अगर नहीं हो पाता है तो वह केवल भौतिक ता फैलाएगी और नैतिकता समाप्त हो जाएगी। उन्होंने कहा कि आज के दौर में हिंसा एवं अमानवीयता बढ़ी है जो देश की अस्मिता के लिए खतरा है। उन्होंने कहा कि आज शिक्षा मन्दिरों में जिस प्रकार से गंदी राजनीति हावी हो रही है उससे देश का वातावरण कलंकित होता है। 

JVBI Celebrating 26th Anniversary at Ladnun. 
स्मारिका का किया गया विमोचन सम्मान समारोह भी हुआ 
इसअवसर पर विश्वविद्यालय की स्मारिका संवाहिनी का लोकार्पण अतिथियों द्वारा किया गया। इसके अलावा विश्वविद्यालय के योगा विभाग में स्थापित राजस्थान कौशल एवं आजीविका विकास निगम के प्रोजेक्ट का उद्घाटन राजस्थान लोक सेवा आयोग के चेयरमैन एचआर कुडी ने किया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय द्वारा सबसे श्रेष्ठ सम्मान वरिष्ठ विद्या निधि सम्मान से प्रो. आनन्द प्रकाश त्रिपाठी को नवाजा गया। कनिष्ठ विद्या निधि सम्मान से डॉ प्रद्युम्नसिंह शेखावत डॉ. पूजा जैन का सम्मान किया गया। आदर्श कर्मचारी सम्मान मोहन सियोल, पवन सेन, संदीप शर्मा, रमेश दान चारण, हिमांशु खिडिया, हनुमान चौधरी, तीर्था घाले, हीरालाल देवासी, बाबूलाल धोबी, बहादुर सिंह, श्रवण कुमार, बजरंगलाल को सम्मानित किया गया। आदर्श विद्यार्थी के रूप में दिनेश कुमार, सुनीता कुमारी, खुशबू योगी अदिति कंवर का सम्मान किया गया। संयोजन डॉ प्रद्युम्रसिंह शेखावत ने किया। 

रैली निकाल कर दिया नैतिकता का संदेश 

इसअवसर पर विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से कार्यक्रम से पूर्व शहर में रैली निकाल कर शहरवासियों को नैतिकता, अहिंसा, व्यसन मुक्ति, पॉलिथीन मुक्ति आदि का संदेश दिया गया। स्थानीय सुख आश्रम से सुबह इस विशाल रैली का आयोजन किया गया तथा शहर के मुख्य मार्गों से होते हुए जैन विश्व भारती पहुंची। रैली को कुलपति समणी चारित्रप्रज्ञा कार्यक्रम के मुख्य संयोजक डॉ धर्मचन्द लूंकड की उपस्थिति में नगरपालिकाध्यक्ष संगीता पारीक, सीआई नागरमल कुमावत ने हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। रैली का संयोजन डॉ वीरेन्द्र भाटी मंगल ने किया। रैली में 1000 से अधिक विद्यार्थियों, शिक्षकों एवं प्रमुख लोगों ने भाग लिया। 

मंगलसंगान से शुरू हुआ कार्यक्रम 

समारोहमें विश्वविद्यालय के अनुशास्ता एवं तेरापंथ धर्मसंघ के आचार्य महाश्रमण के वीडियो संदेश का प्रसारण किया गया। आचार्य महाश्रमण ने विश्वविद्यालय के प्रति शुभाषंसा व्यक्त करते हुए संस्थान के भावी विकास की कामना की। इससे पूर्व कुलसचिव प्रो. अनिलधर ने विश्वविद्यालय के प्रगति विवरण को प्रस्तुत करते हुए गतिविधियों पर प्रकाश डाला। स्वागत वक्तव्य प्रो. आनन्दप्रकाश त्रिपाठी ने दिया। डॉ जुगलकिशोर दाधीच ने अतिथियों का परिचय दिया। समणी प्रणवप्रज्ञा द्वारा प्रस्तुत मंगलसंगान से कार्यक्रम का शुभारम्भ हुआ। कार्यक्रम में संयोजन डॉ. विवेक माहेश्वरी ने किया तथा अंत में आभार प्रो बीएल ने व्यक्त किया। इस अवसर पर साध्वीश्री उज्जवल प्रभाजी, उम्मेद खां, डॉ धर्मचन्द लूंकड, रमेश बोहरा, सुमित्रा आर्य, अंजना शर्मा, भागचन्द बरडिया, प्रमोद बैद, अरविन्द गोठी, प्रो बीआर दुगड, आरबीएस वर्मा, हनुमानमल जांगिड़, रमेशसिंह राठौड़, राजेन्द्र खटेड़, भाणूं खां टाक, देवा राम पटेल, श्रीचंद पारीक, भंवर लाल जांगिड़, रामेश्वर लाल व्यास, नन्दलाल वर्मा, नरपत सिंह गौड़, छोटाराम परिहार सहित अनेक लोग उपस्थित थे। 

भाषण के साथ आचरण की शिक्षा दी 

Jain Vishwa Bharti University Celebrating 26th Anniversary at Ladnun In the Pious Presence of Muni Shri Vimal Kumar ji & Sadhvi Shri Ujjwal Prabhaji and Vice Chancellor Samni Charitra Prgya Ji
Samni Vrund and Shrawak Samaj at Sudharma Sabha Ladnun,
to celebrate 26th Anniversary of JVBI.
जगदगुरु डॉ. स्वामी राघवाचार्य महाराज ने वेद के संदेश मनुर्भव के अनुसार केवल मनुष्य का ढांचा मात्र बनने के बजाए मानवता को जीवन में उतारने की जरूरत बताई। उन्होंने कहा कि जीवन मूल्यों के प्रति समर्पण हो और करूणा भाईचारे की स्थापना हो। भारतीय संस्कृति एवं संस्कार का विश्व में कोई सानी नहीं है। उन्होंने जैन विश्वभारती विश्वविद्यालय में संस्कारों के साथ शिक्षा के प्रति किए जा रहे कार्यों को अनूठा एवं अनुकरणीय बताया। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता राज्य मानवाधिकार आयोग के सदस्य एचआर कुडी ने समारोह का संबोधित करते हुए कहा जैन विश्वभारती विश्वविद्यालय अपनी शिक्षा एवं अन्य गतिविधियों के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान रखता है। शिक्षा के साथ व्यक्तित्व निर्माण आवश्यक : जैन तेरापंथ धर्मसंघ के संत मुनि विमलकुमार ने जैन विश्वभारती विश्वविद्यालय के द्वारा किए जा रहे प्रयासों को मानव हितकारी बताया तथा कहा कि यह संस्थान व्यक्तित्व निर्माण का उद्देश्य लेकर चलता है। ख्वाजा दरगाह कमेटी के अध्यक्ष असरार अहमद खान ने कहा कि जैन विश्वभारती विश्वविद्यालय आचार्य तुलसी के सपनों का साकार रूप है। उन्होंने कहा कि यह विश्वविद्यालय सौहार्द की शिक्षा के लिए देश के समर्पित नागरिक तैयार कर रहा है। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए कुलपति समणी चारित्रप्रज्ञा ने कहा कि वे अनेकता में एकता का अनुभव कर रही है। शिक्षा का उद्देश्य, महत्व , जीवन निर्माण और उसके मार्गदर्शक के रूप में उपयोग द्वारा देश को सुनहरा भारत बनाने का होना आवश्यक है। उन्होंने बताया कि रजत जयंती समारोह के दौरान पूरे वर्ष भर विश्वविद्यालय द्वारा देश एवं विदेशों में विशिष्ट एवं उल्लेखनीय कार्य किए गए। 

President of Jain Vishwa Bharti Dr. DC Lunkad felicitating Guest of Honor.  
Samni Vrund and Shrawak Samaj at Sudharma Sabha Ladnun, to celebrate 26th Anniversary of JVBI.
Polythene Free Ladnun -  An Initiative by JVBI and Prayer held before programs to starts.


                   

Related

Local 6758797781219631802

Post a Comment Default Comments

Leave your valuable comments about this here :

emo-but-icon

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments





Total Pageviews

item