ईरोड में 27 वर्षीय युवक का 31 की तपस्या का पच्चक्खाण एवं अभिनंदन समारोह


इरोड. आचार्य श्री महाश्रमणजी की सुशिष्या समणी निर्देशिका विपुलप्रज्ञाजी एवं समणी आदर्शप्रज्ञाजी के सान्निध्य में श्री ओज बाबेल सुपुत्र श्री जतनलालजी - श्रीमती कलावती बाबेल (सरदारशहर निवासी, ईरोड प्रवासी) ने 27 वर्ष की युवावस्था में मासखमण (31 की तपस्या) का पच्चक्खाण किया। सुबह 8.20 बजे करपगम ले-आउट से सम्पूर्ण जैन समाज की शोभा यात्रा के साथ तपस्वी भाई तेरापंथ भवन पहुंचा। वहां आयोजित तप अभिनन्दन कार्यक्रम का शुभारंभ समणीवृंद द्वारा नवरात्र के नवान्हिक  अनुष्ठान के मंत्रों के साथ हुआ। 

इस अवसर पर समणी विपुलप्रज्ञाजी ने फ़रमाया कि नवरात्रा का समय शक्ति जागरण का होता है। इस समय तपस्या करना वह भी मासखमण की तपस्या करना विशेष महत्व रखती है। ओज बाबेल ने पूरी जागरूकता एवम् जप तप के साथ जिस सादगी से तप अनुष्ठान किया वह युवा पीढ़ी के लिए अनुकरणीय है। समणीजी ने ओज को 31 का प्रत्याखान करवाया। समणीजी ने समधुर गीतिकाओं व प्रेरणादायक शब्दों के द्वारा तपस्वी का अभिवादन किया।
इससे पूर्व सभाध्यक्ष श्री हनुमानमल दूगड़ ने सम्पूर्ण जैन समाज का हार्दिक स्वागत एवम् तपस्वी भाई का अभिनन्दन किया एवं गीतिका के द्वारा अपने भावों की प्रस्तुति दी। इसी क्रम में कन्या मंडल, सभा, युवक परिषद्, महिला मंडल ने समूह गीतिका के द्वारा क्रमश: अभिनन्दन के भावों की प्रस्तुति दी। महासभा की ओर से कार्यकारिणी सदस्य श्री नरेंद्र नखत ने अभिनंदन किया एवम् साध्वी प्रमुखा श्री द्वारा प्राप्त मंगल सन्देश का वाचन किया। अभातेयुप प्रकाशन प्रभारी श्री रमेश पटावरी ने अभातेयुप की ओर से अपने युवा साथी द्वारा किये गए इस तप का अभिनन्दन एवं साधुवाद किया एवं अभातेयुप द्वारा प्रेषित तप सन्मान पत्र का वाचन किया। मंत्री मुनिश्री द्वारा प्राप्त प्रतिबोध पत्र का वाचन श्री धर्मचंद बोथरा ने किया। साध्वी प्रज्ञाश्री द्वारा प्राप्त आशीर्वचन पत्र का बाचन श्रीमती निशा बाबेल ने किया। अभिनन्दन के इस क्रम में तेयुप अध्यक्ष श्री पंकज सेठिया, श्री जैन श्वेताम्बर संघ के मंत्री श्री संतोष मेहता, श्री कुंथुनाथ मूर्तिपूजक संघ के पूर्वाध्यक्ष श्री विनोद करवावाला, श्री जैन श्वेताम्बर स्थानकवासी संघ से श्री हंसराज भुरट, महिला मंडल से श्री मति मंजू बोथरा, ओज के ससुराल पक्ष से उनके ससुर श्री राजेश जैन ने अपने भावो की प्रस्तुति दी। ओज के परिवार से उनकी बहन एवम् जीवन संगिनी, ससुराल पक्ष से भी गीतिका के द्वारा अभिनन्दन किया गया।
तपस्या का संक्लप करने वाले भाई-बहिनों, पदाधिकारियों एवं वरिष्ठजनों ने क्रमश: सभा, तेयुप एवं महिला मंडल की ओर से अभिनन्दन पत्र और साहित्य भेंट कर भाई ओज का अभिनंदन किया। सरदारशहर परिषद् की ओर से साहित्य भेट कर श्री रतनलाल नखत ने आर्शीवाद प्रदान किया। कार्यक्रम का कुशल संचालन समणी आदर्शप्रज्ञाजी ने किया। धन्यवाद ज्ञापन सभा के मंत्री रमेश पटावरी ने किया।






















Related

Local 5545336424806265140

Post a Comment Default Comments

Leave your valuable comments about this here :

emo-but-icon

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments





Total Pageviews

item