आदमी को अपनी आत्मा के आसपास रहने का प्रयास करना चाहिए : आचार्यश्री महाश्रमण

- प्रवर्धमान अहिंसा यात्रा का वर्धमान महोत्सव के लिए कूचबिहार में भव्य प्रवेश -


          
आचार्यश्री महाश्रमणजी


12 जनवरी 2017 कूचबिहार (पश्चिम बंगाल) (JTN) जैन श्वेताम्बर तेरापंथ धर्मसंघ के देदिप्यमान महासूर्य आचार्यश्री महाश्रमणजी अपनी धवल रश्मियों के साथ गुरुवार को पश्चिम बंगाल के उत्तरी भाग के मुख्य और ऐतिहासिक जिला मुख्यालय कूचबिहार को अपने चरणरज से पावन करने पहुंचे। आचार्यश्री यहां चारदिवसीय प्रवास कर लोगों के लिए ज्ञान की गंगा बहाएंगे। आचार्यश्री चारदिवसीय प्रवास और वर्धमान महोत्सव को अपना पावन सान्निध्य प्रदान करने के लिए नगर स्थित कूचबिहार इन्डोर स्टेडियम प्रांगण में पहुंचे। जहां बने प्रवचन पंडाल में उपस्थित श्रद्धालुओं को आचार्यश्री ने अपनी मंगलवाणी से उन्हें अपने जीवन में समता की साधना करने की प्रेरणा प्रदान की। पहली बार अपनी धरा पर अपने आराध्य देव का दर्शन पाकर हर्षित श्रद्धालुओं सहित विभिन्न संस्थाओं ने भी आचार्यश्री के समक्ष अपनी भावनाओं की प्रस्तुति दी तो अंध विद्यालय के बच्चों ने भी आचार्यश्री के चरणों में अपनी भावपूर्ण पुष्पांजलि अर्पित की।
            तेरापंथ धर्मसंघ की धर्मध्वजा के साथ तीन महान मानवीय उद्देश्यों के साथ अदम्य साहस और दृढ़ संकल्प के साथ अहिंसा यात्रा प्रणित कर जन-जन के कल्याण को निकले तेरापंथ धर्मसंघ के महासूर्य आचार्यश्री महाश्रमणजी अपनी धवल सेना के साथ प्रवर्धमान होते हुए वर्धमान महोत्सव के लिए गुरुवार को प्रातः की मंगल बेला में कूचबिहार के लिए कूच किया।
            कूचबिहार जिला पश्चिम बंगाल के उत्तरी हिस्से में स्थित है। इस जिले को मुख्य रूप से जूट और तम्बाकू की खेती के जाना जाता है। ऐतिहासिकता की बार करें तो यहां की राजबाड़ी जिला मुख्यालय की सुन्दरता में चार चांद लगाता है। कभी राजा नृपेन्द्र नारायण का राज्य का हिस्सा रहा कूचबिहार आज भी कई ऐतिहासिक क्षणों को अपने आपमें समेटे हुए है। कूचबिहार महल सहित कई ऐतिहासिक स्थल लोगों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं।
            गुरुवार को सुबह की मंगल बेला में जब आचार्यश्री अपनी धवल रश्मियों के साथ कूचबिहार के कूच किया तो आज कोहरा कहीं दिखाई नहीं दे रहा था, क्योंकि आसमान के सूर्य के साथ धरती के महासूर्य भी अपनी श्वेत रश्मियों के साथ जन-जन के मन को प्रकाशित करने के लिए निकल पड़े थे। लगभग बारह किलोमीटर की यात्रा के बाद आचार्यश्री अपनी धवल सेना के साथ जैसे ही कूचबिहार जिला मुख्यालय की सीमा पर पहुंचे कई दिनों से अपने जिला में पधारे अपने आराध्य देव को अपनी धरती पर निहारने को आतुर तेरापंथी श्रावक तो वहीं अखंड परिव्राजक की श्रमशीलता और महान संकल्पों से प्रभावित अन्य जैन एवं जैनेतर समाज सहित पूरा कूचबिहार सड़कों पर उमड़ पड़ा था। तेरापंथ धर्मसंघ के ग्यारह आचार्यों की झांकी, सद्भावना, नैतिकता, नशामुक्ति की झांकी तो कहीं बंगाल और अन्य संदेशपरक झांकी के साथ विभिन्न स्कूलों के बच्चे, सामाजिक संस्थाओं के सदस्यों के साथ तेरापंथ धर्मसंघ के सभी संस्थाओं और सभाओं के सदस्य-सदस्याएं सहित ज्ञानशाला के बच्चे अपने गणवेश में आचार्यश्री का अपनी नगरी में स्वागत करने तत्पर दिखाई दे रहे थे। आचार्यश्री के नगर सीमा में प्रवेश करते ही विशाल जनमेदिनी ने आचार्यश्री का स्वागत किया और हर्षाभिव्यक्ति करते हुए गगनभेदी नारे से पूरे वातावरण को पवित्र कर दिया। पश्चिम बंगाल के कलकत्ता शहर में जन्म लेकर पूरे विश्व को आलोक बांटने वाले स्वामी विवेकानंद के जन्म जयंती के मौके पर शांतिदूत का कूचबिहार मुख्यालय पर मंगल प्रवेश अपने आपमें भव्य था। आचार्यश्री विशाल जनमेदिनी पर अपने दोनों कर कमलों से आशीष की वृष्टि कर रहे थे। भव्य जुलूस और झाकियों के साथ आचार्यश्री अपने चारदिवसीय प्रवास और वर्धमान महोत्सव के लिए सजे कूचबिहार इन्डोर स्टेडियम के प्रांगण में पहुंचे।
            इन्डोर स्टेडियम के प्रांगण में बने भव्य पंडाल में उपस्थित श्रद्धालुओं को अपनी मंगलवाणी का रसपान कराते हुए आचार्यश्री ने कहा कि समता की साधना के द्वारा अपने आपको विशेष प्रसन्न बनाने का प्रयास करना चाहिए। आदमी अपने जीवन में मानसिक तनाव, चिन्ता, भय में चला जाता है। तनाव से ग्रसित चिंतित आदमी कैसे प्रसन्न रह सकता है। आदमी यदि अपने जीवन में समता की साधना कर ले तो अनुकूल और प्रतिकूल दोनों परिस्थितियों में अपने आपको प्रसन्नचित्त बना सकता है। आदमी के मन में डर न हो, चिन्ता न हो, शोक न हो प्रसन्नता प्राप्त हो सकती है। प्रसन्नता मन को शांति प्रदान करने वाली हो सकती है। आदमी भौतिक सुखों से प्रसन्न हो सकता है किन्तु विशेष प्रसन्नता विशेष बात होती है। मोह का भाव आदमी के सहज प्रसन्नता के लिए बाधक तत्व होता है। आदमी अपने शरीर से मोह कर लेता है। इसलिए आदमी शरीर के लिए कितना कुछ करता है। भौतिक सुखों में आसक्त हो जाता है। ममता और आसक्ति प्रसन्नता के बाधक तत्व हैं। शरीर के आसपास रहने वाला व्यक्ति अपनी आत्मा से दूर हो सकता है। इसलिए आदमी को शरीर नहीं अपनी आत्मा के आसपास रहने का प्रयास करना चाहिए। आदती प्रिय-अप्रिय से मुक्त जीवन जीने का प्रयास करे तो वह प्रसन्नता की दिशा में आगे बढ़ सकता है। समता को धर्म बताया गया है। इसलिए आदमी को समता भाव में रहने का प्रयास करना चाहिए। आचार्यश्री ने एक कहानी के माध्यम से श्रद्धालुओं को प्रेरित करते हुए कहा कि आदमी दुःख के समय सोचे कि यह समय भी बीत जाएगा और ज्यादा खुशी के समय भी यह सोचे कि यह समय बीत जाएगा तो आदमी समभाव की साधना कर सकता है।
            आचार्यश्री ने बंगालवासियों को विशेष प्रेरणा प्रदान करते हुए कहा कि अहिंसा यात्रा त्रिसूत्रीय कार्यक्रम चली है। आदमी यदि अपने जीवन में इन तीन संकल्पों को आत्मसात करने का प्रयास करे तो भी वह समता की प्राप्ति की आगे बढ़ सकता है। आदमी को समता की साधना कर आत्मा की सुगति का प्रयास करना चाहिए।
            आचार्यश्री के मंगल प्रवचन से पूर्व असाधारण साध्वीप्रमुखाजी ने भी अपने ममतामयी वाणी से श्रद्धालुओं को विशेष प्रेरणा प्रदान की।

            अपने धरती पर अपने आराध्य देव का स्वागत करने के लिए भी श्रद्धालु उत्साहित दिखाई दे रहे थे। इस क्रम में सर्वप्रथम ब्लाइंड स्कूल (अंध विद्यालय) के बच्चों ने अपने सुमधुर स्वर में गीत का संगान कर आचार्यश्री के चरणों में पुष्पांजलि अर्पित की। इसके उपरान्त कूचबिहार की तेरापंथ महिला मंडल ने स्वागत गीत का संगान किया। ब्राह्मण समाज और माहेश्वरी समाज की महिलाओं ने भी आचार्यश्री के स्वागत में गीत का संगान किया। साधुमार्गी समाज के श्री कन्हैयालाल भूरा ने आचार्यश्री के समक्ष अपनी भावनाओं को अभिव्यक्त करते हुए कहा कि हमारी वर्ष 2010 की विनती आज स्वीकार हुई जो आपश्री के चरणरज हमारी इस पर पड़े। आपके त्रियामी उद्देश्य से साधुमार्गी समाज सर्वस्व समर्पण भाव से जुड़ना चाहता है। अंत में उन्होंने कविता पाठ कर आचार्यश्री की वंदना की। आचार्यश्री ने सभी अपने आशीषवृष्टि से अभिस्नात किया। कार्यक्रम का संचालन मुनिश्री दिनेशकुमारजी ने किया।








Related

Pravachans 4217578485582775878

Post a Comment Default Comments

Leave your valuable comments about this here :

emo-but-icon

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments





Total Pageviews

item