अणुव्रत उदबोधन सप्ताह का शानदार आगाज

मानवता की संजीवनी है अणुव्रत- साध्वी निर्वाणश्री 
घाटकोपर। महातपस्वी अणुव्रत अनुशास्ता आचार्य श्री महाश्रमणजी के निर्देशानुसार मुंबई महानगर में अणुव्रत की अलख जगाने वाली विदुषी साध्वी श्री निर्वाणश्रीजी के पावन सान्निध्य में अणुव्रत के सिद्धांत प्रयोगों पर विशद विमर्श हुआ। अणुव्रत उदबोधन सप्ताह के उदघाटन को सम्बोधित करते हुए विदुषी साध्वी श्री निर्वाणश्रीजी ने कहा - मानवता की संजीवनी है अणुव्रत । अणुव्रत आध्यात्मिक चेतना को संवारने के एक उपक्रम है । आज विश्व भौतिक विकास के नए-नए शिखरों को छू रहा है  पर आदमी मानवीय मुल्यों से थोड़ा हटता जा रहा है । अपेक्षा है भाव शुद्धि, सदभाव तथा विश्व मैत्री के महामंत्र अणुव्रत को अपना कर जीवन का उन्नयन करें । पूज्य आचार्य श्री महाश्रमण जी की अहिंसा यात्रा के तीनों उदेश्य अणुव्रत की भावना का सम्पोषण करने वाले है।

प्रमुख वक़्ता डॉ. साध्वी योगक्षेमप्रभाजी ने अपने सारगर्भित वक्तव्य में कहा गुरुदेव तुलसी ने मानव कल्याण के लिए अणुव्रत की रोशनी दी । वे नगर-नगर डगर-डगर पदयात्रा कर अणुव्रत का परचम फैलाने लगे । इस जन व्यापी आंदोलन से लोग व्यसन मुक्त बने । आज उन व्यसनों और रूढ़ियों को समझकर छोड़ने की जरूरत है ।

कार्यक्रम का शुभारंभ मंगल मंत्रोच्चार से हुआ ।श्रीमती भावना चपलोत आदि ने गीत का संगान किया ।अणुव्रत समिति  के अध्यक्ष श्री गणपतजी डागलिया ने समागत समस्त अतिथियों का स्वागत करते हुए अणुव्रत उदबोधन सप्ताह के शुभारंभ की घोषणा करते हुए  निर्मित पुस्तिका का विधिवत लोकार्पण करवाया ।

इंकमटैक्स की सह कमिश्नर सारिका जैन ने अणुव्रत आंदोलन की भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुए अणुव्रत को इंडिया के संविधान  में लागू होने की प्रार्थना की । अणुव्रत से सम्बद्ध मधुर गीत का संगान साध्वी लावण्यप्रभाजी ने किया । भावों की अभिव्यक्ति के क्रम में डालचंद जी कोठारी (पुर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष अ. महासमिति), श्री मनीष कोठारी (अध्यक्ष टी.पी. एक), जयश्री बडाला (अध्यक्षा-महिला मंडल मुंबई), कार्यक्रम संयोजिका श्रींमती कंचन सोनी, राजेन्द्र जी मुणोत (मंत्री अ. समिति), कोषाध्यक्ष नितेश धाकड़ ,रमेश जी चौधरी, चंद्रप्रकाश जी बोहरा, श्रीमती करुणा कोठारी आदि ने अपने उदगार व्यक्त किए । तेयुप की और से अध्यक्ष लोकेश डांगी ने आभार की व्यक्त किया । 

कार्यक्रम के प्रारंभ में अभातेममं की टीम व राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती कुमुद कच्छारा तथा अभातेयुप टीम व राष्ट्रीय महामंत्री श्री संदीप कोठारी के साथ उपस्थित होकर कार्यक्रम की सफलता की शुभकामनाएं दी । मंच संचालन उप समिति घाटकोपर के सह संयोजक हस्तीमलजी डांगी ने किया।

इससे पूर्व अणुव्रत समिती मुंबई के मंत्री श्री राजेंद्र मुणोत ने अपने अहंकार को छोड़ कर शांतिमय जीवन व्यतीत करने के लिए अणुव्रत को अंगीकार करने का आव्हान करते हुये आगामी कार्यो की रूपरेखा प्रस्तुत की ।

कार्यक्रम में विशेष रूप से उपाध्यक्ष श्री महावीर कोठारी, श्री सुरेश मेहता श्रीअविनाश इटोदिया, श्रीललित सांखला, श्रीसुधीर सांखला, श्रीदिनेश धाकड़, श्रीपारस जी सांखला, श्रीचंद्र प्रकाशजी बोहरा, श्री हस्तीमलजी डागी, श्रीमती  भाग्यवंती परमार, श्रीमती प्रियंका सिंघवी, श्रीरमेश धोका, श्रीनरेन्द्रजी तातेड़, श्रीसुरेश राठौड़, श्रीअर्जुनलाल सोलंकी, श्रीमहेन्द्रजी तातेड़, श्रीविजयसिंह बैद, श्री गोटूलाल बडाला, श्रीदेवीलाल कच्छारा, श्रीचांदमल सोलंकी, श्रीमदन  तातेड़, श्रीराजेश धाकड़, श्रीकिरण हिंगड़, श्रीक्रांति सुराणा, श्रीविनोद बडाला, श्रीमतीपुष्पा सुराणा, श्रीकैलाशजी परमार उपस्थित थे ।



साध्वी श्री ने विशेष रूप से अणुव्रत के ग्यारह नियमों को ग्रहण करने की प्रेरणा दी । साध्वी श्री ने उपस्थित विशाल जनमेदनी को एक स्वर से अणुव्रतों के ग्यारह नियमों का संकल्प करवाया । सबने प्रसन्न मन से व्रतों को स्वीकार किया।

Related

Local 8507618866971524014

Post a Comment Default Comments

  1. ऊँ अर्हम्

    सबसे तेज जेटीएन

    ReplyDelete

Leave your valuable comments about this here :

emo-but-icon

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments





Total Pageviews

item