हिरियुर में नवान्हिक अनुष्ठान एवं तप अभिनन्दन

नवरात्रि का अनुष्ठान : तपस्या का अमृतपान

27.9.17। हिरियुर । श्रीमती शांतिदेवी सालेचा व श्रीमती चारुल सालेचा ने साध्वीश्री लब्धिश्रीजी से क्रमशः 15 व अठ्ठाई का प्रत्याख्यान किया । नवरात्रि अनुष्ठान का सातवां दिन जप के साथ-साथ तप का भी विशेष महत्व । दोनों का योग सोने में सुहागा । साध्वीश्रीजी ने अपने प्रेरक प्रवचन में कहा कि तप की शक्ति अप्रतिहत है । देवता भी तपस्वी के चरणों में नत है । तन व मन के विकारों को दूर करनेवाला तप एक अचूक औषधि है । तप के द्वारा एक ओर शारीरिक व्याधियां दूर होती है तो दूसरी ओर मानसिक शान्ति व समाधि प्राप्त होती है। तप अनमोल तत्त्व है । तप से हम कर्मों की विपुल निर्जरा कर सकते हैं । साध्वीश्रीजी ने आगे कहा कि हम तपस्या का अनुमोदन करते है। तप अनुमोदना तक ही सीमित न रहें । तपोयज्ञ में अपनी आहुति देकर हमारी झोली को भरते रहें,चूंकि हमारा मन भी प्रसन्न रहे। चातुर्मास में A to Z तप रंगरली छाई रहे। साध्वीश्रीजी ने उपस्थित धर्म परिवार तपस्या के क्षेत्र में नए-नए कीर्तिमान बनाने हेतु आह्वान किया । 

ज्ञात्वय है कि दुर्गचन्दजी सालेचा के घर इस बार व इससे पूर्व दो मासखमण हो चुके है, तीसरा चल रहा है और छोटी बहुरानी चारुल की अठ्ठाई,यह सब महातपस्वी महाश्रमणजी की अनुकम्पा का तथा साध्वी लब्धिश्रीजी की सहज प्रेरणा का प्रतिफल है। 

   उपासक श्री शंकरलालजी पितलिया, श्री दीपचन्दजी बोकड़िया, सभाध्यक्ष श्री जयंतीलालजी चौपड़ा, श्रीमती संतोष, महिला मंडल, श्री दुर्गचन्दजी तथा साध्वीश्री आराधनाश्रीजी नेे तप अनुमोदन कर सभी को खुशियों में सराबोर कर दिया ।

तप का अभिनंदन तपस्या द्वारा
देवराजजी - अठ्ठाई, शांतिदेवी ५, सुशीलजी, सतिश, कमलाबाई, सपनाजी, श्रीमती पारसमलजी आदि ने तेले की तपस्या के संकल्प के साथ तपस्विनी बहनों का साहित्य देकर सम्मान किया । कार्यक्रम का संयोजन श्री देवराजजी ने कुशलतापूर्वक किया ।


Related

Local 7340395302651438237

Post a Comment Default Comments

Leave your valuable comments about this here :

emo-but-icon

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments





Total Pageviews

item