अभातेयुप के तत्वावधान में मुंबई में उन्नयन कार्यशाला का आयोजन

अखिल भारतीय तेरापंथ युवक परिषद के तत्वावधान में तेरापंथ युवक परिषद घाटकोपर द्वारा आचार्य श्री महाश्रमण जी की विदुषी शिष्या साध्वी निर्वाण श्री जी के सान्निध्य में उन्नयन कार्यशाला का आयोजन मुम्बई , चेम्बूर स्थित ग्रैंड नालंदा हाल में आयोजित हुआ ।

इस अवसर पर साध्वी श्री निर्वाणश्रीजी ने अपने मंगल उद्बोधन में कहा- उन्नयन के लिए हमे बहुत कुछ करना है।  आचार, विचार, आध्यत्म और व्यवहार उन्नयन की चतुर्मुखी उद्देश्य है।  युवाशक्ति ज्ञान सम्पन्न एवं चरित्र सम्पन्न बने।  आज देश मे अनेक समस्याएं है ये समस्याओं का समाधान तब होगा जब आप मूल को समजेंगे और मूल के प्रति कटिबद्ध बनेंगे। हमारा आचार उन्नत होना चाहिए। यदि हमारा आचार उन्नत है तो थोड़े से व्यक्ति भी क्रांति कर सकते है । हमें स्वयं का, समाज का एवं राष्ट्र का उन्नयन करना है ।  आप अपने आचार को सर्वोपरि समझे।  आचार एवं विचार को उन्नत बनाने से आध्यत्म अपने आप उन्नत बन जायेगा। 

अभातेयुप के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री विमल कटारिया ने अपने ऊर्जावान वक्तव्य में युवा शक्ति को सम्बोधित करते हुए कहा कि अभातेयुप एक संगठन है, सशक्त संगठन है।  पूज्य प्रवर के इंगित को योजनाबद्ध तरीके से आप तक पहुचाने का कार्य अभातेयुप करता है । हम सब का एकमात्र उद्देश्य होना चाहिए कि तेरापंथ धर्मसंघ को कैसे आगे बढ़ाया जाए ! मुम्बई से नई नई प्रस्तुतियां सीखने मिलती है। तेयुप,  कोपरखेरने की टीम ने हर शनिवार को सामायिक करने का संकल्प किया । तेरापंथ की युवा शक्ति अडिग मन से गुरु इंगित की आराधना करने हेतु कटिबद्ध है। हरेक साथी को अपने साथ जोड़कर चलना है। सम्पूर्ण युवा शक्ति सामायिक के क्रम के साथ जुड़े । देश की आर्थिक राजधानी मुम्बई है तो तेरापंथ की आध्यात्मिक राजधानी भी मुम्बई बने।

अभातेयुप के महामंत्री श्री संदीप कोठारी ने अपने वक्तव्य में कहा- 'उन्नयन - नए सपनों को साकार करने, नई उड़ान भरने तत्पर है युवाशक्ति।' अभातेयुप के विविध आयामों के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि 21000 युवकों को आध्यत्म की कड़ी से जोड़ने शनिवार की सामायिक हेतु जोड़ने का प्रयास कर रहेगा।  प्रतिदिन मासखमन द्वारा कई आध्यात्मिक कार्यों में आगे बढ़ने की बात कही एवं पधारे हुए सभी का स्वागत किया । 

अभातेयुप के उपाध्यक्ष द्वितीय श्री पंकज डागा ने समधुर गीत प्रस्तुत किया । सहमंत्री प्रथम श्री रमेश डागा ने अपने वक्तव्य में कहा कि युवा शक्ति युवावहिनी के तहत रास्ते की सेवा में जुड़ने की अपील की । अभातेयुप के संगठन मंत्री श्री पवन मांडोत ने अभातेयुप के विजन 2017-19 के विजन में से बताते हुए कहा कि कॉन्फिडेंस पब्लिक स्पीकिंग के तहत युवाओं को कैसे प्रवक्ता बनाया जा सकता है आदि के बारे में बताया एवं तेरापंथ के हरेक युवा एवं किशोरों को युवक परिषद में जोड़ने का आहवान किया।  अभातेयुप के सहमंत्री द्वितीय अभिनंदन नाहटा ने किशोर मंडल , पच्चीस बोल आदि के बारे में बताया । अभातेयुप के उपाध्यक्ष प्रथम श्री मुकेश गुगलिया ने अपने वक्तव्य में कहां की हम साध्वी निर्वाण श्री जी के सान्निध्य में नव निर्माण की ओर है।  युवाओं के सर्वांगीण विकास के लिए कार्य किये जा रहे है और मानव सेवा के लिए भी आचार्य तुलसी डाइग्नोस्टिक सेंटर द्वारा मानव सेवा के उत्थान के कार्य किया जाएगा साथ ही साथ आचार्य महाप्रज्ञ दंत चिकित्सालय एवं डायलिसिस सेंटर खोलने का संकल्प है।


इस अवसर पर अभातेयुप के निवर्तमान अध्यक्ष श्री बी.सी.भलावत ने अपना भावपूर्ण वक्तव्य दिया । साध्वीवृंद ने अपनी भावभरी अभिव्यक्ति प्रस्तुत की । तेरापंथी सभा, मुम्बई के मंत्री श्री नरेन्द्र बांठिया ने अपना वक्तव्य दिया। 

अभातेममं की राष्ट्रीय अध्यक्षा श्रीमती कुमुद कच्छारा ने अपने वक्तव्य में समग्र महिला शक्ति की ओर से समागत श्रावक समाज का स्वागत किया ।  तेरापंथ महिला मंडल , घाटकोपर की बहिनो द्वारा सुमधुर गीत की प्रस्तुति दी गयी। 

तेरापंथी महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री किशनलाल डागलिया ने युवाशक्ति के नेतृत्व को बधाई देते हुए कहा कि अनुभवी व्यक्तित्व से संस्था सुशोभित होती है, भाई विमल कटारिया अनुभव का संगम है । साध्वी श्री जी के सान्निध्य में आयोजित प्रथम कार्यशाला उन्नयन से इस सत्र का आगाज़ हुआ है आगामी सत्र के मंगलकामना प्रेषित करता हूँ।  

इससे पूर्व तेरापंथ युवक परिषद, घाटकोपर के सदस्यों द्वारा विजय गीत संगान के साथ कार्यशाला का शुभारंभ हुआ। कार्यशाला उन्नयन की विधिवत उद्घाटन की घोषणा एवं श्रावक निष्ठा पत्र का वाचन अभातेयुप के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री विमल कटारिया ने किया । तेयुप, घाटकोपर के अध्यक्ष श्री लोकेश डांगी ने अपना स्वागत वक्तव्य में पधारे हुए सभी महानुभावों का स्वागत किया।  उन्नयन कार्यशाला के केंद्रीय संयोजक श्री गौतम डांगी ने अपने विचार रखे । तेरापंथ कन्या मंडल ने समधुर गीत प्रस्तुत किया । 

इस अवसर पर जैन श्वेतांबर तेरापंथी महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री किशनलाल डागलिया, कोषाध्यक्ष श्री रमेश सुतरिया, तेरापंथी सभा मुम्बई के अध्यक्ष श्री सुनील कच्छारा सहित पूरी टीम,  अखिल भारतीय तेरापंथ महिला मंडल की राष्ट्रीय अध्यक्षा श्रीमती कुमुद कच्छारा सहित पूरी टीम, अभातेयुप मुम्बई टीम सहित अनेक युवक परिषद के सदस्य, जय तुलसी फाउंडेशन के महामंत्री श्री सलिल लोढ़ा, अणुव्रत समिति के अध्यक्ष श्री गणपत डागलिया, तेरापंथ प्रोफेशनल फोरम आदि के  पदाधिकारीगण एवं अच्छी संख्या में श्रावक - श्राविका समाज उपस्थित रहा । कार्यक्रम के प्रथम सत्र का कुशल मंच संचालन साध्वी डॉ. योगक्षेम प्रभाजी ने किया । मंगल पाठ द्वारा कार्यक्रम के प्रथम सत्र का समापन हुआ।




Related

Sangathan 8572666331295490036

Post a Comment Default Comments

Leave your valuable comments about this here :

emo-but-icon

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments





Total Pageviews

item