Top Ads

जैन जयतु शासनम्’ कार्यक्रम में जैन धर्म के दो आचार्यों का आध्यात्मिक मिलन

स्वयं की आत्मा को बनाएं मित्र : युगप्रधान आचार्यश्री महाश्रमण

नवकार मंत्र से चलता है जिन शासन : ज्योतिषाचार्य प्रणामसागरजी

15.12.2023, शुक्रवार, दादर (पूर्व), मुम्बई (महाराष्ट्र), जन-जन में सद्भावना, नैतिकता और नशामुक्ति की अलख जगाने वाले, जन-जन को सन्मार्ग दिखाने वाले, मोक्ष प्राप्ति का साधन बताने वाले जैन श्वेताम्बर तेरापंथ धर्मसंघ के ग्यारहवें अनुशास्ता की मंगल सन्निधि में दादर प्रवास के दूसरे दिन दिगम्बर सम्प्रदाय के ज्योतिषाचार्य प्रणाम सागरजी महाराज भी उपस्थित हुए। जैन सम्प्रदाय के दो आध्यात्मिक गुरुओं का आध्यात्मिक जन-जन को आह्लादित कराने वाला रहा। मुख्य प्रवचन कार्यक्रम में दोनों आचार्यों ने उपस्थित श्रद्धालु जनता को पावन प्रेरणा भी प्रदान की व जैन एकता का मंगल संदेश प्रदान किया। 


शुक्रवार को प्रातःकाल श्री साउण्ड सिने स्टूडियो में बने वर्धमान समवसरण में आज ‘जैनम् जयतु शासनम्’ का समायोजन हुआ। इस जैन शासन के प्रभावक कार्यक्रम में उपस्थित जनता को जैन श्वेताम्बर तेरापंथ धर्मसंघ के देदीप्यमान महासूर्य आचार्यश्री महाश्रमणजी ने पावन पाथेय प्रदान करते हुए कहा कि दुनिया में हर किसी के मित्र भी होते हैं, अथवा आदमी अपना मित्र बनाता है। शास्त्रों में एक बात बताई गई कि मानव की स्वयं की आत्मा ही उसकी सबसे अच्छी मित्र होती है, और आत्मा ही शत्रु भी हो सकती है। अच्छी प्रवृत्ति में लगी हुई आत्मा उस व्यक्ति की मित्र होती है और बुरी प्रवृत्ति में लगी हुई आत्मा उस व्यक्ति की शत्रु होती है। अहंकार, क्रोध, लोभ व माया में लिप्त आत्मा आदमी की शत्रु व निरहंकार, संतोषी, सरल, धर्म परायण आत्मा स्वयं की मित्र होती है। 


मानव अपनी आत्मा को अपना मित्र बनाने का प्रयास करे। क्रोध, मान, माया और लोभ रूपी कषायों से अपनी आत्मा को मुक्त रखने का प्रयास हो। हम जैन संप्रदायों में भेद में भी अभेद को देखने का प्रयास करें। परस्पर सहयोग और सेवा की भावना का विकास होता रहे। जैन शासन के अंतिम तीर्थंकर भगवान महावीर के 2500 वर्ष के उपलक्ष में दिल्ली में एक विशाल कार्यक्रम का समायोजन हुआ था, जिसमें परम पूज्य गुरुदेवश्री तुलसी भी उपस्थित थे। उस दौरान जैन एकता के एक प्रतीक, एक ध्वज और एक ग्रन्थ की बात भी सामने आई थी। 



दिगम्बर जैन संप्रदाय के ज्योतिषाचार्य प्रणाम सागरजी महाराज ने कहा कि आज ‘जैन जयतु शासनम्’ का आयोजन है। नवकार महामंत्र के द्वारा हम सभी जैन हैं। संतों की वाणी से आदमी सौभाग्यशाली बनता है। शासन वोट के द्वारा चलता है और जिन शासन नवकार मंत्र से चलता है। परम पूजनीय आचार्यश्री महाश्रमणजी जैसे संतों के साथ समागन तो बहुत ही सुखद फल देने वाला है। हम सभी को जैन एकता का ध्यान रखना है और आचार्यजी के बताए मार्ग पर आगे बढ़ना चाहिए। इस दौरान उन्होंने स्वरचित अनेक पुस्तकें आचार्यश्री को उपहृत की। आचार्यश्री ने भी उन्हें एक पुस्तक उपहृत की। मंच पर दोनों आचार्यों के परस्पर स्नेह को देखकर जनता अभिभूत नजर आ रही थी। 


कार्यक्रम के अंत में तेरापंथ युवक परिषद-दादर के सदस्यों ने गीत का संगान किया। प्रतिमाधारी श्रावक श्री डालचंद कोठारी ने अपनी अभिव्यक्ति दी। ज्ञानशाला के ज्ञानार्थियों ने अपनी भावपूर्ण प्रस्तुति दी। तेरापंथ कन्या मण्डल ने गीत का संगान किया। 

Post a Comment

0 Comments