Top Ads

160 वें मर्यादा महोत्सव का प्रथम दिन


 *📜 मर्यादा के शिखर पुरुष युगप्रधान आचार्य श्री महाश्रमणजी के सानिध्य में तेरापंथ के महाकुंभ "160 वें मर्यादा महोत्सव" के त्रिदिवसीय कार्यक्रम का वाशी - नवी मुम्बई में हो रहा है आयोजन*

*📿 पूज्य गुरुदेव द्वारा नमस्कार महामंत्रोच्चार के उच्चारण एवं आचार्य भिक्षु द्वारा लिखित ऐतिहासिक "मर्यादा पत्र" की स्थापना के पश्चात मर्यादा महोत्सव के शुभारंभ की घोषणा के साथ हुआ 160 वें मर्यादा महोत्सव का भव्य आगाज*


*🌀 हजारों की संख्या में श्रद्धालु श्रावक समाज बन रहा है ऐतिहासिक क्षणों का साक्षी*



*📜 मर्यादा के शिखर पुरुष युगप्रधान आचार्य श्री महाश्रमणजी के सानिध्य में तेरापंथ के महाकुंभ "160 वें मर्यादा महोत्सव" के त्रिदिवसीय कार्यक्रम का वाशी - नवी मुम्बई में हो रहा है आयोजन*


*📿 मुनिश्री दिनेशकुमारजी द्वारा "मर्यादा गीत" के संगान के पश्चात उपासक श्रेणी द्वारा "हम उपासक साधना में आगे बढ़ते जाए" गीत की हुई श्रद्धासिक्त प्रस्तुति*




*📜 मर्यादा के शिखर पुरुष युगप्रधान आचार्य श्री महाश्रमणजी के सानिध्य में तेरापंथ के महाकुंभ "160 वें मर्यादा महोत्सव" के त्रिदिवसीय कार्यक्रम का वाशी - नवी मुम्बई में हो रहा है आयोजन*

*📿 मुनिश्री कमल कुमारजी दिल्ली चातुर्मास सम्पन्न कर द्रुतगति से मुम्बई में पहुंचकर पूज्यप्रवर के दर्शन कर प्रस्तुत की अपनी श्रद्धासिक्त भावाभिव्यक्ति*




*📜 मर्यादा के शिखर पुरुष युगप्रधान आचार्य श्री महाश्रमणजी के सानिध्य में तेरापंथ के महाकुंभ "160 वें मर्यादा महोत्सव" के त्रिदिवसीय कार्यक्रम का वाशी - नवी मुम्बई में हो रहा है आयोजन*

*📿 साध्वियों द्वारा सेवा केंद्र नियुक्ति हेतु निवेदन के क्रम में साध्वियों की ओर से साध्वी श्री जिनप्रभाजी ने पूज्यप्रवर से सेवा हेतु नियुक्तियां करने का किया निवेदन*

*तेरापंथ धर्मसंघ विलक्षण संघ, इसकी विलक्षणता का एक प्रमुख घटक है "सेवा" -- साध्वी श्री जिनप्रभाजी* 




*📜 मर्यादा के शिखर पुरुष युगप्रधान आचार्य श्री महाश्रमणजी के सानिध्य में तेरापंथ के महाकुंभ "160 वें मर्यादा महोत्सव" के त्रिदिवसीय कार्यक्रम का वाशी - नवी मुम्बई में हो रहा है आयोजन*

*📿 संतों द्वारा सेवा केंद्र नियुक्ति हेतु निवेदन के क्रम में संतों की ओर से मुनि श्री कुमारश्रमण जी ने पूज्यप्रवर से सेवा हेतु नियुक्तियां करने का किया निवेदन*

*मर्यादा को अक्षुण्ण बनाए रखने में सेवा का सबसे बड़ा योगदान - मुनि श्री कुमारश्रमण जी* 



*📜 मर्यादा के शिखर पुरुष युगप्रधान आचार्य श्री महाश्रमणजी के सानिध्य में तेरापंथ के महाकुंभ "160 वें मर्यादा महोत्सव" के त्रिदिवसीय कार्यक्रम का वाशी - नवी मुम्बई में हो रहा है आयोजन*

*📿साध्वीवर्या जी द्वारा सेवा धर्म की महत्ता बतायी-*

*तेरापंथ को एकतन्त्र में बाँधनेवाला घटक है सेवा*

*संघ, संगठन की दीर्घजीविता व अखंडता के लिए महत्वपूर्ण तत्व है सेवा* 




*📜 मर्यादा के शिखर पुरुष युगप्रधान आचार्य श्री महाश्रमणजी के सानिध्य में तेरापंथ के महाकुंभ "160 वें मर्यादा महोत्सव" के त्रिदिवसीय कार्यक्रम का वाशी - नवी मुम्बई में हो रहा है आयोजन*

*पूज्य गुरुदेव ने चतुर्विध धर्मसंघ को प्रेरणा पाथेय प्रदान करते हुए संघ में साधना, संगठन, विधान, सेवा की महत्ता का किया विश्लेषण*




*📜 मर्यादा के शिखर पुरुष युगप्रधान आचार्य श्री महाश्रमणजी के सानिध्य में तेरापंथ के महाकुंभ "160 वें मर्यादा महोत्सव" के त्रिदिवसीय कार्यक्रम का वाशी - नवी मुम्बई में हो रहा है आयोजन*


*तेरापंथ के महाकुंभ 160 वें मर्यादा महोत्सव के प्रथम दिवस परमपूज्य गुरुदेव ने की सेवा केंद्र में सेवा देने हेतु घोषणा*





*📜 मर्यादा के शिखर पुरुष युगप्रधान आचार्य श्री महाश्रमणजी के सानिध्य में आयोजित तेरापंथ धर्मसंघ के महाकुंभ "160 वें मर्यादा महोत्सव" के त्रिदिवसीय कार्यक्रम के _प्रथम दिवस_ की चित्रमय झलकियाँ*




*📜 मर्यादा के शिखर पुरुष युगप्रधान आचार्य श्री महाश्रमणजी के सानिध्य में आयोजित तेरापंथ धर्मसंघ के महाकुंभ "160 वें मर्यादा महोत्सव" के त्रिदिवसीय कार्यक्रम के _प्रथम दिवस_ की प्रमुख झलकियाँ*

https://www.facebook.com/share/p/8CrnC5dWgmDZUbLP/?mibextid=UyTHkb




*160 वां मर्यादा महोत्सव : वाशी बना काशी* 


https://www.facebook.com/share/r/xDtnk7R2oybBhSu7/?mibextid=Nif5oz


साभार - अमृतवाणी









Post a Comment

0 Comments